Hain yehi anth, par yeh anth nahi…

सदियो पुराना पावन यह शहर

गंगा मैया के तट पर बसा यह शहर

दिनभर घूमता और द्रिश्य देखता

जो देखता, उसे जीवन में उतरता.

 

भक्तो का यह शहर सदियो पुराना

जोड़े नया और बीता ज़माना

कल आज और कल के बीच की कड़ी

भूत और भविष्या को पकड़े खड़ी.

 

कहता है शहर कल को आशा से ताकना

कभी कभी मगर अतीत में भी झाँकना.

 

शहर से जुड़ी गंगा बहती निरंतर

अवीरल चलती सदा अपने पथ पर,

गर्मी के प्रकोप से थोड़ी सिकुर ज़रूर जाती

पर वर्षा के आते ही एक नया वेग पाती.

 

कहती हमें जीवन चलता रहेगा हर हाल में

बदले चाहे मौसम कितने ही हर हाल में.

 

मंदिरो के शिखर, खुले से अहाते

भक्त होते नतमस्तक आते जाते.

सांझ की आरती, घंटिया, शंखनाद

हर पल दिलाते विधाता की याद.

 

कहता है शिवालय आस्ता है ज़रूरी

बिन विश्वास के हैं ज़िंदगी अधूरी

 

दूर नदी के तट का एक नज़ारा

शमशान भूमि, जीवन का अंतिम किनारा.

धू धू कर जलती वहाँ काई चिता

मुक्त हुए बंधन, हर सुख दुख मिटा.

 

कहता है मरघट, है जीवन चक्र यहीं

हैं यही अंत, पर यह अंत नही.

Sadiyo purana Paawan yeh sheherGanga maiya ke tat pe basaa yeh sheher.Din bhar ghumta aur drishya dekhtaJo dekhta usey jeevan mein utarta. 

Bhakto ka yeh sheher sadiyo purana

Jodey naya aur beeta zamana.

Kal, aaj aur kal ke beech ki kadi

Bhoot aur bhavishya ko pakre khadi.

 

Kehta hai sheher kal ko asha se taakna

Kabhi kabhi magar ateet mein bhi jhaankna.

 

Sheher se judi Ganga behti nirantar

Aviral chalti sadaa apne path par

Garmi ke prakoop se thori sikur zaroor jaati

Par varsha ke aate hi phir naya ek veeg paati.

 

Kehti hamey jeevan chalta rahega har haal mein

Badle chaahe mausam kitne hi har saal mein.

 

Mandiro ke shikhar, khule se ahaate

Bhakt hote natmastak aate jaate

Saanjh ki aarti, ghantiya, shankhnaad

Har pal dilate vidhata ki yaad.

 

Kehta hai shivalay aasta hai zaruri

Bin vishvas ke hai zindagi adhuri.

 

Dur nadi ke tat ka ek nazara

Shamshaan bhumi, jeevan ka antim kinara

Dhu dhu kar jalti waha kayi chita

Mukt huye bandhan, har sukh dukh mita.

 

Kehta hai marghat, hain jeevan chakra yehi

Hain yehi anth, par yeh anth nahi.

Varanasi-1330
Varanasi-1325

Varanasi-1481

Varanasi-1494

Advertisements

10 thoughts on “Hain yehi anth, par yeh anth nahi…

  1. कहता है शहर कल तो आशा से ताकना

    कभी कभी मगर अतीत में भी झाँकना.

    ……………………..says it all…..beautiful.

    Like

  2. wating for ur blog for long,…….simply beautiful …..specially ‘कहता है मरघट, है जीवन चक्र यहीं

    हैं यही अंत, पर यह अंत नही.’ true,isn’t it

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s